पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री बोले शुरू की जानी चाहिए शांति प्रक्रिया

0
45

नई दिल्ली । पाकिस्तान के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत-पाकिस्तान के बीच शांति प्रक्रिया फिर शुरू करने की इच्छा जताई है। मंगलवार को उन्होंने ट्वीट किया-दोनों देशों को कश्मीर समेत सभी मतभेदों को दूर करने के लिए बातचीत और व्यापार का आगाज करना चाहिए। इससे पहले भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इमरान खान को पत्र लिखकर अच्छे पड़ोसी जैसे संबंध बनाने की वचनबद्धता दिखाई थी। इमरान ने पीएम का पद संभालने के बाद पहली बार भारत से सीधी बातचीत की पेशकश की है। उन्होंने कहा कि उपमहाद्वीप से गरीबी खत्म करने और लोगों का उत्थान करने का श्रेष्ठ तरीका बातचीत से मतभेद खत्म कर कारोबार शुरू करना है। गौरतलब है कि मोदी यही बात पाक को कई बार समझा चुके हैं। बहरहाल, अंग्रेजी और उर्दू में किए ट्वीट में इमरान ने लिखा-आगे बढऩे के लिए पाक और भारत को बातचीत अवश्य करना चाहिए तथा कश्मीर समेत अन्य मसलों पर टकराव खत्म करना चाहिए। इमरान ने कहा- मैं पूर्व क्रिकेटर और पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को शपथ समारोह में पाकिस्तान आने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। वह शांति के दूत बन कर आए और उन्हें पाकिस्तान के लोगों ने खूब प्यार और अपनापन दिया। भारत में जो लोग उन्हें निशाना बना रहे हैं, वे उपमहाद्वीप में शांति को गंभीर आघात पहुंचा रहे हैं। शांति के बगैर विकास नहीं हो सकता। इमरान खान ने पिछले माह हुए पाकिस्तान के आम चुनाव में अपनी पार्टी की जीत के बाद भी भारत से रिश्ते सुधारने की मंशा जताई थी। उन्होंने कहा था, ‘यदि वे एक कदम आगे बढ़ाएंगे तो हम दो कदम चलेंगे, लेकिन हमें शुरुआत तो करनी होगी।Ó

और पढ़ें:   कश्मीर को लेकर फिर बौखलाया पाकिस्तान और चीन अनुच्छेद 370 को हटाया जाना बताया गैरकानूनी

खटास भरे हैं रिश्ते
पाकिस्तानी आतंकी संगठनों के भारत के सैन्य प्रतिष्ठानों पर हमले के बाद 2016 में भारत ने पाकिस्तान से बातचीत बंद कर दी थी। भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को पाक की सैन्य अदालत द्वारा पिछले साल अप्रैल में मृत्युदंड की सजा सुनाए जाने के बाद रिश्ते और बिगड़ गए हैं। सीमा पर रोज संघर्षविराम का उल्लंघन हो रहा है और लोग मारे जा रहे हैं। भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय व्यापार वर्ष 2012-13 से घट रहा है और वर्ष 2016-17 में कम होकर 2.28 अरब डॉलर (करीब 15,900 करोड़ रुपये) रह गया है।

सिद्धू ने दी अटल
मोदी की पाकिस्तान यात्र की दुहाई1चंडीगढ़: इस्लामाबाद में पाक सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा से गले मिलने पर विवाद में आए पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने मंगलवार को सफाई दी। उन्होंने स्पष्ट किया कि वह कोई राजनीतिक यात्र नहीं थी, बल्कि एक मित्र के गर्मजोशी भरे न्योते की प्रतिक्रिया भर थी। उन्होंने अपने पक्ष में पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी और मोदी की पाक यात्र की दुहाई दी। सिद्धू ने भाजपा पर दोहरे मानदंड अपनाने का आरोप लगाते हुए कहा कि पाक सेना प्रमुख से गले मिलना भावुक पल था। भाजपा दोहरे मानक क्यों अपना रही है? अटल जी दोस्ती का संदेश लेकर पाक गए थे, उसके बाद कारगिल युद्ध हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here