Miss World 2019: सुमन राव ने यहां से की पढ़ाई , कथक नृत्य है उनका शौक

Must Read

दादी के दम से चौंक गई दुनिया, कोबरा को पूँछ पकड़ कर फेंका

सोशल मीडिया पर वायरल हुई दादी की वीडियो को बहुत पसंद किया जा रहा है| 2 लाख से भी...

1 जून से बदल जाएंगे रेलवे, LPG, राशन कार्ड और विमान सेवा से जुड़े ये 5 नियम

जैसे की हम सभी जानते हैं की चौथा lockdown भी खत्म होने वाला है,और 31 मई को चौथा lockdown...

Mansoon 2020: 1 जून को भारत में दस्तक देगा मानसून, मौसम विभाग ने जताई संभावना

भारतीय मौसम विभाग के वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया है कि 1 जून को देश के केरल राज्य में दक्षिण...
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

राजस्थान की लड़की सुमन राव एशिया की सबसे खूबसूरत महिला बन गई हैं और विश्व की वह तीसरी सबसे खूबसूरत महिला का खिताब जीत चुकी हैं। 20 वर्षीय सुमन राव ने फेमिना मिस इंडया 2019 और मिस इंडिया राजस्थान 2019 का खिताब जीता था। राजस्थान के उदयपुर के पास स्थित अइदना गाँव निवासी यह मॉडल एक शानदार कथक डांसर भी हैं। 23 नवंबर, 1999 को उनका जन्म हुआ था और वर्तमान में चार्टर्ड एकाउंटेंट की पढाई कर रही हैं।
उनके पिता का ज्वैलर्स का कारोबार है और उसकी माँ गृहिणी हैं। सुश्री राव और उनका परिवार एक साल की उम्र में मुंबई पहुंच गया और नवी मुंबई में महात्मा स्कूल ऑफ एकेडमिक्स एंड स्पोर्ट्स में उन्होंने अपनी पढ़ाई की है।
2018 में, उन्हें मिस नवी मुंबई प्रतियोगिता में प्रथम रनर-अप का ताज पहनाया गया। इसके बाद वह फेमिना मिस राजस्थान 2019 जीतने में सफल रहीं। उन्होंने फेमिना मिस इंडिया 2019 प्रतियोगिता में राजस्थान का प्रतिनिधित्व किया। 15 जून 2019 को, उन्हें मुंबई के सरदार वल्लभ भाई पटेल इंडोर स्टेडियम में फेमिना मिस इंडिया वर्ल्ड का ताज पहनाया गया। एक मॉडल होने के साथ ही सुमन राव कथक नर्तक में भी प्रशिक्षित हैं। इंस्टाग्राम पर, सुश्री राव ने एक शास्त्रीय गीत के लिए नृत्य का एक वीडियो पोस्ट किया। देश में लैंगिक असमानता को लेकर वह बेहद परेशान रहती हैं, और ग्लोबल स्तर पर इस मुद्दे को उठाना चाहती हैं। मिस वर्ल्ड 2019 के ब्यूटी विद ए पर्पज खंड में, उन्होंने वित्तीय स्वतंत्रता के माध्यम से आदिवासी महिलाओं को अपने सपनों को साकार करने में मदद करने के लिए पहल की थी। उनके अभियान का शीर्षक प्रोजेक्ट प्रगति (Project pragati) था। उसने इन महिलाओं को शैंपू, जैल और अन्य उत्पाद बनाने में मदद की और अपने गाँव के अंदर ही रोजगार का साधन पैदा करने के प्रति जागरूक किया था। राजकुमारी दिव्या कुमारी फाउंडेशन ने परियोजना में सहयोग किया था। उन्होंने महिलाओं को हथकरघा, सजावटी हस्तशिल्प, सहायक उपकरण और आभूषण बनाने में मदद की। उनके द्वारा बनाए गए उत्पाद जयपुर सिटी पैलेस के पास बेचे जाते हैं और उन्हें ऑनलाइन भी खरीदा जा सकता है। वह अपने उत्पादों की व्यापक पहुंच के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा समर्थित एक गैर-लाभकारी संगठन भारत सेवाश्रम संघ से भी जुड़ी हुई हैं।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

दादी के दम से चौंक गई दुनिया, कोबरा को पूँछ पकड़ कर फेंका

सोशल मीडिया पर वायरल हुई दादी की वीडियो को बहुत पसंद किया जा रहा है| 2 लाख से भी...

1 जून से बदल जाएंगे रेलवे, LPG, राशन कार्ड और विमान सेवा से जुड़े ये 5 नियम

जैसे की हम सभी जानते हैं की चौथा lockdown भी खत्म होने वाला है,और 31 मई को चौथा lockdown भी खत्म हो जायेगा। ये...

Mansoon 2020: 1 जून को भारत में दस्तक देगा मानसून, मौसम विभाग ने जताई संभावना

भारतीय मौसम विभाग के वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया है कि 1 जून को देश के केरल राज्य में दक्षिण पश्चिम दिशा से मानसून दस्तक...

आखिर सड़क के बीच कार्तिक आर्यन ने क्यों बदले कपड़े?

लॉक डाउन के दौरान भी कार्तिक अपने फंस से जुड़े हुए हैं| सोशल मीडिया पर अपनी तस्वीरों और वीडियो को डालकर वह सुर्खियों में...

अमिताभ बच्चन न अब दान की 20 हजार पीपीई किट, प्रवासियों को भी बसों से किया रवाना

कोरोना वायरस से जंग लड़ रहे देश की साथ बॉलीवुड के कई कलाकार खड़े हो गए हैं । इनमें अक्षय कुमार सोनू सूद सलमान...
- Advertisement -