उत्तर प्रदेश के इस दिग्गज नेता की है पुलिस को तलाश, दे रही है घर पर दबिश

Must Read

Love story का दुखद अंत: प्रेमिका की हत्या के बाद प्रेमी बोला मुझे भी मार दो, लड़की के बाप ने उसे भी मार दी...

  उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले की पुलिस ने प्रेमी-प्रेमिका की मौत के मामले में सनसनीखेज खुलासा किया है। लड़की...

सतपुली कॉलेज से हुआ National Webinar, देशभर के लोगों ने रखे विचार

पौड़ी-गढ़वाल-राजकीय महाविद्यालय सतपुली तथा विद्या अभिकल्पन मनोवैज्ञानिक शोध संस्था हल्द्वानी के संयुक्त तत्वावधान में एक राष्ट्रीय वेबिनार PROBLEMS FACING...

नाला खुदाई के दौरान मिला 3 साल पहले MISSING युवक का कंकाल, AADHAR से हुई पहचान

उत्तर प्रदेश के जिला मैनपुरी के किशनी में उस वक्त सनसनी मच गई जब नाला निर्माण के लिए चल...
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली । सपा सरकार के सबसे ताकतवर मंत्रियों में से एक आजम खां पर आखिर पुलिस ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। इस दिग्गज नेता की तलाश में पुलिस उनके घर पर अन्य ठिकानों पर दबिश दे रही है। ऐसा पहली बार हुआ है जब पुलिस आजम की गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही है। यही नहीं पुलिस ने उनकी गिरफ्तारी के लिए मुनादी भी करवाई है। इसके बाद अदालत से धारा 83 के तहत नोटिस जारी होगा, तब घर की कुर्की होगी। कोर्ट में पेश होने की अंतिम तारीख 24 जनवरी है। बता दें आजम पर 80 मुकदमे दर्ज हैं, लेकिन गिरफ्तारी के लिए दबिश और मुनादी की कार्रवाई पहली बार की गई है। वह पुलिस के हाथ नहीं लग रहे हैं, जबकि वह दो सप्ताह पहले ही अपर पुलिस महानिदेशक अविनाश चंद्रा से मुलाकात करने बरेली गए थे। उन्होंने एडीजी से रामपुर में हुए उपद्रव में निदरेष लोगों को फंसाने की शिकायत की थी। इसके बाद से कहां हैं, इस बारे में कोई कुछ बताने को तैयार नहीं है। यह है मामला : यह मुकदमा अब्दुल्ला आजम के फर्जी जन्म प्रमाण पत्र से संबंधित है। भाजपा नेता आकाश सक्सेना ने पिछले साल जनवरी माह में मुकदमा दर्ज कराया था कि अब्दुल्ला ने धोखाधड़ी से दो जन्म प्रमाण पत्र बनवाए हैं। इसके लिए आजम खां और उनकी पत्नी ने भी शपथपत्र देकर गलत तथ्य पेश किए हैं। पुलिस ने जांच के बाद अप्रैल 2019 में चार्जशीट दाखिल कर दी थी। इसके बाद से ही अदालत में मुकदमा विचाराधीन है। आजम खां के खिलाफ 80 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। दो मामलों में बुधवार को भी उनके खिलाफ धारा 82 के तहत कुर्की की नोटिस जारी हुए थे। इनमें एक मामला पड़ोसी को धमकाने का और दूसरा आचार संहिता उल्लंघन से जुड़ा है। कुर्की की नोटिस के बाद होती है मुनादी : गैर जमानती वारंट के बाद भी अगर अभियुक्त कोर्ट में हाजिर नहीं होते हैं तो पुलिस उनकी कुर्की प्रक्रिया के लिए अदालत पहुंचती है। वहां से धारा 82 के तहत नोटिस जारी होता है। नोटिस को आरोपित के घर पर चस्पा किया जाता है। अदालत के आदेश पर इसी प्रक्रिया के तहत डुग्गी पिटवाकर मुनादी कराई जाती है कि अभियुक्त की अदालत में पेशी होनी है।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

Love story का दुखद अंत: प्रेमिका की हत्या के बाद प्रेमी बोला मुझे भी मार दो, लड़की के बाप ने उसे भी मार दी...

  उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले की पुलिस ने प्रेमी-प्रेमिका की मौत के मामले में सनसनीखेज खुलासा किया है। लड़की...

सतपुली कॉलेज से हुआ National Webinar, देशभर के लोगों ने रखे विचार

पौड़ी-गढ़वाल-राजकीय महाविद्यालय सतपुली तथा विद्या अभिकल्पन मनोवैज्ञानिक शोध संस्था हल्द्वानी के संयुक्त तत्वावधान में एक राष्ट्रीय वेबिनार PROBLEMS FACING BY ADOLESCENTS DURING COVID-19 विषय...

नाला खुदाई के दौरान मिला 3 साल पहले MISSING युवक का कंकाल, AADHAR से हुई पहचान

उत्तर प्रदेश के जिला मैनपुरी के किशनी में उस वक्त सनसनी मच गई जब नाला निर्माण के लिए चल रही खुदाई के दौरान उसमें...

RBSE : राजस्थान में दसवीं व 12वीं की परीक्षा के लिए निर्देश जारी

  वैश्विक महामारी के चलते सरकार ने सभी १०वी और १२वी की परीक्षाओं को रद कर दिया था। राजस्थान बोर्ड ने 10 और 12 की...

June Festival 2020: जून में पड़ेगे ये बड़े त्योहार, देखें सूची

हम सब ही जानते हैं की हमारे हिन्दू धर्म मैं पुरे साल भर त्यौहार का ही दिन रहता है ,हम आपको बता दे की...
- Advertisement -