Helth news : हृदय रोगी शीतलहर से खुद को इस तरह रखें बचाकर

Must Read

करीना कपूर, रणबीर कपूर, करण जौहर बॉलीवुड की ‘गॉसिप गर्ल्स’ हैं, अनन्या पांडे का खुलासा

जैसे की हम सभी जानते हैं की देश मैं अभी कोरोना काल चल रहा है इस कोरोना काल के...

अर्जुन कपूर हेरा फेरी में रणवीर सिंह के साथ अभिनय करना चाहते हैं

आपको तो पता होगा की रणबीर सिंह और अर्जुन कपूर बॉलीवुड मैं बोहोत अच्छे दोस्त माने जाते हैं। इस...

मुजफ्फरपुर स्टेशन के जिस बच्चे का वीडियो वायरल हुआ था, शाहरुख करेंगे उसकी मदद

जैसे की हम सभी जानते हैं की इस समय पूरा देश कोरोना नामक वैश्विक बीमारी से जूझ रहा है...
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली । मौसम का पारा गिरते ही दिल्ली में ठिठुरन बढ़ गई है। ऐसे में डॉक्टरों ने लोगों को स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहने की सलाह दी है। डॉक्टर कहते हैं कि यह देखा गया है कि सर्दी के मौसम में हार्ट अटैक (heart atack)  अधिक होता है। इसलिए इस मौसम में हार्ट अटैक का खतरा अधिक है। खासतौर पर पहले से हृदय की बीमारी व अन्य पुरानी बीमारियों से पीडि़त लोगों को अधिक सतर्क रहने की जरूरत है। साथ ही अभी सुबह में सैर (morning walk) न करें।
हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ. केके अग्रवाल ने कहा कि तापमान काफी कम हो जाने पर धमनियां सिकुडऩे लगती हैं। इस वजह से रक्त संचार प्रभावित होता है और हार्ट अटैक का खतरा रहता है। इसके अलावा अस्थमा के मरीजों की परेशानी बढ़ सकती है। इसलिए इन दिनों खानपान में ठंडी चीजों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। ब्लड प्रेशर, अस्थमा व मधुमेह (sugar) के मरीजों को डॉक्टर की सलाह लेकर जरूरत के मुताबिक दवा की खुराक बढ़ा लेनी चाहिए। इसके अलावा सुबह सैर करना दिल के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। इसलिए अभी सुबह की जगह दिन में धूप निकलने पर ही सैर करें।
फोर्टिस अस्पताल के पल्मोनरी विभाग के डॉ. विकास मौर्य ने कहा कि सर्दी में लोगों के सामने दोहरी चुनौती होती है। एक तो तापमान काफी कम हो गया है। दूसरी बात यह कि ठंड के मौसम में धूलकण वातावरण में ज्यादा ऊपर नहीं उठ पाते। इस वजह से ठंड के मौसम में प्रदूषण का स्तर अधिक होता है। इस वजह से सर्दी के मौसम में वायरल संक्रमण होने की आशंका रहती है। इससे गले व फेफड़े में संक्रमण होने के साथ ही निमोनिया का खतरा बढ़ जाता है। अस्पताल में ऐसे मरीज बढ़ भी गए हैं। बच्चों, बुजुर्गों, पुरानी बीमारियों से पीडि़त, किडनी या अन्य अंग प्रत्यारोपण वाले मरीजों को संक्रमण होने पर नुकसान का खतरा अधिक होता है। इसलिए उन्हें अधिक संभलकर रहना चाहिए। यह देखा गया है कि ठंड अधिक होने पर लोग पानी पीना कम कर देते हैं। इससे ब्लड गाढ़ा होने लगता है। इसलिए ठंड में हार्ट अटैक होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए 40 से 50 साल की उम्र वाले लोगों को भी सतर्क रहना चाहिए और प्रतिदिन छह से आठ ग्लास गुनगुना पानी पीना चाहिए। यदि किसी को डॉक्टर ने कम पानी पीने की सलाह दी है, उसे डॉक्टर की सलाह का ही पालन करना चाहिए।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

करीना कपूर, रणबीर कपूर, करण जौहर बॉलीवुड की ‘गॉसिप गर्ल्स’ हैं, अनन्या पांडे का खुलासा

जैसे की हम सभी जानते हैं की देश मैं अभी कोरोना काल चल रहा है इस कोरोना काल के...

अर्जुन कपूर हेरा फेरी में रणवीर सिंह के साथ अभिनय करना चाहते हैं

आपको तो पता होगा की रणबीर सिंह और अर्जुन कपूर बॉलीवुड मैं बोहोत अच्छे दोस्त माने जाते हैं। इस भाग-दौड़ भरी और व्यस्त ज़िन्दगी...

मुजफ्फरपुर स्टेशन के जिस बच्चे का वीडियो वायरल हुआ था, शाहरुख करेंगे उसकी मदद

जैसे की हम सभी जानते हैं की इस समय पूरा देश कोरोना नामक वैश्विक बीमारी से जूझ रहा है और वहीँ दूसरी और कई...

Happy Marriage Anniversary अमिताभ ने खोला राज बोले, इसलिए करनी पड़ी थी फटाफट शादी

  Happy Marriage Anniversary : सुपरस्टार अमिताभ बच्चन और जया बच्चन की शादी को 47 साल पूरे हो गए हैं । 3 जून 1973 को...

आदेश गुप्ता के गुरसाहयगंज से दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष तक के सफर की यह है पूरी कहानी

कोरोना काल में क्रिकेट खेलने वाले भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी आखिर व्यापारी वर्ग के रीड कहे जाने वाले दिल्ली के पूर्व महापौर आदेश गुप्ता...
- Advertisement -