बजट को लेकर तैयारियां शुरू, निर्मला ने की मंत्रियों संग चर्चा

Must Read

क्या पत्रकारिता दिवस मनाना औचित्य मात्र रह गया है…..

हर साल 30 मई को पत्रकारिता दिवस मनाया जाता है l जिसका मुख्य उद्देश्य समाज को पत्रकारिता के मूल...

यूपी सरकार ने आम की होम डिलीवरी की शुरू की व्यवस्था, अब घर बैठे उठाएं आम का लुत्फ

प्रदेश में भी अब ऑनलाइन बुक कर बागों से सीधे डोर स्टेप पर आप ताजे रसीले आम मंगा सकेंगे।...

Love story का दुखद अंत: प्रेमिका की हत्या के बाद प्रेमी बोला मुझे भी मार दो, लड़की के बाप ने उसे भी मार दी...

  उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले की पुलिस ने प्रेमी-प्रेमिका की मौत के मामले में सनसनीखेज खुलासा किया है। लड़की...
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली । मोदी सरकार के बजट की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। इसी के साथ केंद्र सरकार मंत्रियों और वित्त मंत्रालय ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। इसी कड़ी में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने भाजपा पदाधिकारियों के साथ लंबी बैठक कर उनका फीडबैक लिया। अलग- अलग तीन दौर में महासचिवों, प्रवक्ताओं और मोर्चा प्रमुखों के साथ बैठक में निर्मला ने यह जानना चाहा कि जब वह जनता के बीच जाते हैं तो सबसे ज्यादा कौन सा मुद्दा सामने आता है। लगभग सभी पदाधिकारियों ने उन्हें अर्थव्यवस्था की सुस्ती, रोजगार, बाजार में निवेश के लिए ज्यादा सुविधा, कालाधन घोषित करने के लिए स्कीम जैसे मुद्दों के प्रति जानकारी दी। यूं तो नीति आयोग में हुई अहम बैठक में वित्त मंत्री की गैर मौजूदगी पर विपक्षी दल कांग्रेस ने तंज भी कसा और कहा कि अगली बजट बैठक में सीतारमण को भी आमंत्रित करें। बहरहाल वित्त मंत्री सीतारमण की भाजपा पदाधिकारियों के साथ बैठक इस मायने में अहम थी कि अलग-अलग स्तर पर भाजपा नेताओं से पूछे जा रहे सवाल सामने आ गए। सूत्रों के अनुसार प्रवक्ताओं ने बताया कि उन्हें मुख्यत: रोजगार और अर्थव्यवस्था पर अधिक सवाल पूछे जाते हैं। ऐसे में सरकार को बजट में कुछ ऐसी घोषणाएं करनी चाहिए जो इस दशा को सुधार सके। बताते हैं कि कुछ पदाधिकारियों ने इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर के लिए टैक्स रिबेट और सिंचाई परियोजनाओं के लिए कुछ खास करने की बात कही। बैठक के दौरान इसी क्रम में कालाधन का भी मुद्दा आया और सुझाव दिया गया कि कोई ऐसी स्कीम आनी चाहिए कि लोग बेङिाझक कालाधन घोषित कर सकें। एक सदस्य ने कहा कि फिलहाल निवेश को लेकर बहुत आकर्षण इसलिए नहीं है, क्योंकि कई क्षेत्रों में बहुत ज्यादा अवरोध हैं। उन्होंने कहा कि सरकार को इसे सरल बनाने की कोशिश करनी चाहिए। निर्मला ने भी अलग- अलग बैठकों में सरकार की ओर से उठाए गए कदमों की जानकारी दी और बताया कि ऐसे सवालों के क्या तर्क दिए जा सकते हैं।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

क्या पत्रकारिता दिवस मनाना औचित्य मात्र रह गया है…..

हर साल 30 मई को पत्रकारिता दिवस मनाया जाता है l जिसका मुख्य उद्देश्य समाज को पत्रकारिता के मूल...

यूपी सरकार ने आम की होम डिलीवरी की शुरू की व्यवस्था, अब घर बैठे उठाएं आम का लुत्फ

प्रदेश में भी अब ऑनलाइन बुक कर बागों से सीधे डोर स्टेप पर आप ताजे रसीले आम मंगा सकेंगे। यह सुविधा अगले सप्ताह से...

Love story का दुखद अंत: प्रेमिका की हत्या के बाद प्रेमी बोला मुझे भी मार दो, लड़की के बाप ने उसे भी मार दी...

  उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले की पुलिस ने प्रेमी-प्रेमिका की मौत के मामले में सनसनीखेज खुलासा किया है। लड़की के पिता ने ही दोनों...

सतपुली कॉलेज से हुआ National Webinar, देशभर के लोगों ने रखे विचार

पौड़ी-गढ़वाल-राजकीय महाविद्यालय सतपुली तथा विद्या अभिकल्पन मनोवैज्ञानिक शोध संस्था हल्द्वानी के संयुक्त तत्वावधान में एक राष्ट्रीय वेबिनार PROBLEMS FACING BY ADOLESCENTS DURING COVID-19 विषय...

नाला खुदाई के दौरान मिला 3 साल पहले MISSING युवक का कंकाल, AADHAR से हुई पहचान

उत्तर प्रदेश के जिला मैनपुरी के किशनी में उस वक्त सनसनी मच गई जब नाला निर्माण के लिए चल रही खुदाई के दौरान उसमें...
- Advertisement -