फडऩवीस की पत्नी और प्रियंका के बीच सोशल मीडिया पर छिड़ी जंग

Must Read

क्या पत्रकारिता दिवस मनाना औचित्य मात्र रह गया है…..

हर साल 30 मई को पत्रकारिता दिवस मनाया जाता है l जिसका मुख्य उद्देश्य समाज को पत्रकारिता के मूल...

यूपी सरकार ने आम की होम डिलीवरी की शुरू की व्यवस्था, अब घर बैठे उठाएं आम का लुत्फ

प्रदेश में भी अब ऑनलाइन बुक कर बागों से सीधे डोर स्टेप पर आप ताजे रसीले आम मंगा सकेंगे।...

Love story का दुखद अंत: प्रेमिका की हत्या के बाद प्रेमी बोला मुझे भी मार दो, लड़की के बाप ने उसे भी मार दी...

  उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले की पुलिस ने प्रेमी-प्रेमिका की मौत के मामले में सनसनीखेज खुलासा किया है। लड़की...
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली । महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडऩवीस की पत्नी अमृता इन दिनों सोशल मीडिया पर खूच सुर्खियां बटोर रही हैं। दरअसल महाराष्ट्र की सियासी जंग में पहली बार उन्होंने पति का पक्ष लेते हुए प्रियंका चतुर्वेदी के साथ मोर्चा खोला है।
दरअसल आठ दिन पहले अपने पति के ट्वीट का जवाब देते हुए अमृता ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर हमला बोला था। देवेंद्र फडऩवीस ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी की टिप्पणी ‘मेरा नाम राहुल सावरकर नहींÓ की आलोचना की थी। फडऩवीस ने कहा था कि राहुल गांधी कहीं से भी हिंदुत्व विचारक वीर सावरकर की बराबरी में नहीं ठहरते हैं।
अपने पति की टिप्पणी से संकेत लेते हुए अमृता ने रविवार को शिवसेना अध्यक्ष पर ताना कसते हुए कहा कि अपने नाम के आगे ठाकरे लगा लेने भर से कोई ठाकरे नहीं हो जाता। उन्होंने ट्वीट में कहा था, ‘बिल्कुल सही देवेंद्र फडऩवीस जी! कोई भी अपने नाम के आगे ठाकरे सरनेम लगाकर ठाकरे नहीं हो जाता! हर किसी के लिए असली, सिद्धांतवादी बनना जरूरी है और वह लोगों की भलाई के संबंध में विचार करे और माने कि पार्टी के सदस्य उसके अपने परिवार और सत्ता के खेल से ऊपर हैं।Ó
उनकी इस टिप्पणी का जवाब देते हुए सोमवार को चतुर्वेदी ने कहा कि ठाकरे अपने नाम के अनुसार जी रहे हैं और पेशेवर बैंकर अमृता फडऩवीस यह देख नहीं पा रही हैं। उन्होंने लिखा, ‘वह अपने उपनाम के अनुसार ही काम कर रहे हैं, लेकिन आप समाचार पर ध्यान नहीं दे रही हैं। वादा पूरा किया, सैद्धांतिक प्रतिबद्धता और अपने किसानों की कर्ज माफी से कल्याण के लिए काम करना, 10 रुपये में भोजन जैसी घोषणाओं को आपने ध्यान में नहीं लिया।Ó
इसी महीने के शुरू में चतुर्वेदी और अमृता के बीच एक समाचार को लेकर सोशल मीडिया पर तकरार छिड़ी थी। खबरों में कहा गया था कि बाल ठाकरे स्मारक बनाने के लिए उद्धव ठाकरे सरकार औरंगाबाद में करीब 1000 पेड़ों को गिराने में जुटी है।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

क्या पत्रकारिता दिवस मनाना औचित्य मात्र रह गया है…..

हर साल 30 मई को पत्रकारिता दिवस मनाया जाता है l जिसका मुख्य उद्देश्य समाज को पत्रकारिता के मूल...

यूपी सरकार ने आम की होम डिलीवरी की शुरू की व्यवस्था, अब घर बैठे उठाएं आम का लुत्फ

प्रदेश में भी अब ऑनलाइन बुक कर बागों से सीधे डोर स्टेप पर आप ताजे रसीले आम मंगा सकेंगे। यह सुविधा अगले सप्ताह से...

Love story का दुखद अंत: प्रेमिका की हत्या के बाद प्रेमी बोला मुझे भी मार दो, लड़की के बाप ने उसे भी मार दी...

  उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले की पुलिस ने प्रेमी-प्रेमिका की मौत के मामले में सनसनीखेज खुलासा किया है। लड़की के पिता ने ही दोनों...

सतपुली कॉलेज से हुआ National Webinar, देशभर के लोगों ने रखे विचार

पौड़ी-गढ़वाल-राजकीय महाविद्यालय सतपुली तथा विद्या अभिकल्पन मनोवैज्ञानिक शोध संस्था हल्द्वानी के संयुक्त तत्वावधान में एक राष्ट्रीय वेबिनार PROBLEMS FACING BY ADOLESCENTS DURING COVID-19 विषय...

नाला खुदाई के दौरान मिला 3 साल पहले MISSING युवक का कंकाल, AADHAR से हुई पहचान

उत्तर प्रदेश के जिला मैनपुरी के किशनी में उस वक्त सनसनी मच गई जब नाला निर्माण के लिए चल रही खुदाई के दौरान उसमें...
- Advertisement -