प्रशांत किशोर ने मिलाया दिल्ली के मुख्यमंत्री अरिवंद केजरीवाल से हाथ

Must Read

क्या पत्रकारिता दिवस मनाना औचित्य मात्र रह गया है…..

हर साल 30 मई को पत्रकारिता दिवस मनाया जाता है l जिसका मुख्य उद्देश्य समाज को पत्रकारिता के मूल...

यूपी सरकार ने आम की होम डिलीवरी की शुरू की व्यवस्था, अब घर बैठे उठाएं आम का लुत्फ

प्रदेश में भी अब ऑनलाइन बुक कर बागों से सीधे डोर स्टेप पर आप ताजे रसीले आम मंगा सकेंगे।...

Love story का दुखद अंत: प्रेमिका की हत्या के बाद प्रेमी बोला मुझे भी मार दो, लड़की के बाप ने उसे भी मार दी...

  उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले की पुलिस ने प्रेमी-प्रेमिका की मौत के मामले में सनसनीखेज खुलासा किया है। लड़की...
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली । जदयू के नेता और आईपैक कंपनी के कर्ताधर्ता प्रशांत किशोर (Prashant kishor)दिल्ली में अरविंद केजरीवाल सरकार का साथ देने जा रहे हैं। इसकी घोषणा खुद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवालA(Arvind kejariwal) ने की है। ऐसे में सियासी गलियारों में प्रशांत किशोर के राजनीतिक भविष्य को लेकर अटकलों का बाजार भी गर्म होने लगा है। दरअसल जेडीयू बिहार में भाजपा के साथ गठबंधन में है और दिल्ली में भी चुनाव लडऩे की तैयारी कर रही है। ऐसे में प्रशांत किशोर की कंपनी द्वारा आम आदमी पार्टी के साथ करार किए जाने से राजनीतिक अटकलबाजी तेज हो गई है। इधर जेडीयू (JDU) के एक नेता ने भी नागरिकता संशोधन विधेयक पर पार्टी लाइन से हटकर बयान देने को लेकर प्रशांत किशोर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने ने तो यहां तक कह दिया कि यदि प्रशांत किशोर को पार्टी की नीतियां पसंद नहीं हैं तो वह अपना रास्ता चुन सकते हैं।
यहां बता दें शनिवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक ट्वीट किया है, इसमें कहा है कि उन्हें खुशी हो रही है कि अब आईपैक ने उनके साथ काम करने का करार किया है। दिल्ली में अब यह कंपनी चुनाव में उनके लिए काम करेगी। यहां बता दें कि आईपैक (Ipack) कंपनी प्रशांत किशोर की है। जिसने 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के लिए काम किया था। उस समय भारतीय जनता पार्टी की जबर्दस्त जीत में उनका बड़ा योगदान बताया जा रहा था। इसके बाद उन्होंने पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह, आंध्र प्रदेश में जगनमोहन रेडडी, बिहार में नीतीश कुमार के लिए काम किया। यहां भी राजनीतिक दलों को सफलता मिलने का श्रेय प्रशांत किशोर को दिया गया था। हालांकि उत्तर प्रदेश में उन्होंने कांग्रेस के लिए चुनावी रणनीति की कमान संभाली थी, जिसमें उन्हें करारी हार का सामना करना पड़ा था। यहां बता दें कि पश्चिम बंगाल में भी प्रशांत किशोर की कंपनी ममता बनर्जी के साथ मिलकर काम कर रही है, ताकि तीसरी बार तृणमूल कांग्रेस की सरकार बन सके। हालांकि उनकी कंपनी के इन फैसलों की वजह से बिहार में जदयू विरोधियों के निशाने पर आ गई है। राजनीतिक दलों के लोग जेडीयू की विचारधारा पर भी सवाल उठा रहे हैं। इधर हाल ही में प्रशांत किशोर ने नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर पार्टी लाइन से हटकर बयान दिया था। इसके बाद जेडीयू के ही कुछ नेताओं ने उनके विरोध में मोर्चा खोल दिया है। जेडीयू के राज्य सभा सदस्य राम चंद्र प्रसाद ने कहा है कि प्रशांत किशोर पार्टी में अनुकंपा के आधार पर आए थे। अगर उन्हें पार्टी लाइन पसंद नहीं है तो वह अपना रास्ता चुन सकते हैं। इधर सूत्र बताते हैं कि इन सभी मुद्दों को लेकर प्रशांत किशोर और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मुलाकात शनिवार को होने जा रही है। माना जा रहा है कि नीतीश कुमार (Niteesh kumar ) भी प्रशांत किशोर के रवैये को लेकर असहज महसूस कर रहे हैं। ऐसे में उन्हें कड़ी चेतावनी दिए जाने का अनुमान लगाया जा रहा है।

 

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

क्या पत्रकारिता दिवस मनाना औचित्य मात्र रह गया है…..

हर साल 30 मई को पत्रकारिता दिवस मनाया जाता है l जिसका मुख्य उद्देश्य समाज को पत्रकारिता के मूल...

यूपी सरकार ने आम की होम डिलीवरी की शुरू की व्यवस्था, अब घर बैठे उठाएं आम का लुत्फ

प्रदेश में भी अब ऑनलाइन बुक कर बागों से सीधे डोर स्टेप पर आप ताजे रसीले आम मंगा सकेंगे। यह सुविधा अगले सप्ताह से...

Love story का दुखद अंत: प्रेमिका की हत्या के बाद प्रेमी बोला मुझे भी मार दो, लड़की के बाप ने उसे भी मार दी...

  उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले की पुलिस ने प्रेमी-प्रेमिका की मौत के मामले में सनसनीखेज खुलासा किया है। लड़की के पिता ने ही दोनों...

सतपुली कॉलेज से हुआ National Webinar, देशभर के लोगों ने रखे विचार

पौड़ी-गढ़वाल-राजकीय महाविद्यालय सतपुली तथा विद्या अभिकल्पन मनोवैज्ञानिक शोध संस्था हल्द्वानी के संयुक्त तत्वावधान में एक राष्ट्रीय वेबिनार PROBLEMS FACING BY ADOLESCENTS DURING COVID-19 विषय...

नाला खुदाई के दौरान मिला 3 साल पहले MISSING युवक का कंकाल, AADHAR से हुई पहचान

उत्तर प्रदेश के जिला मैनपुरी के किशनी में उस वक्त सनसनी मच गई जब नाला निर्माण के लिए चल रही खुदाई के दौरान उसमें...
- Advertisement -