दलित को जिंदा जलाने पर मध्य प्रदेश में गर्माई सियासत

0
139

नई दिल्ली । मध्य प्रदेश में एक दलित समुदाय के युवक को केरोसीन डालकर चार लोगों ने जिंदा जला दिया। इस मामले में पुलिस की कार्रवाई के साथ ही मध्यम प्रदेश सरकार पर भी सवाल उठने लगे हैं। ऐसे में मौका मिलते ही विपक्षी दलों ने सरकार पर हमला बोल दिया है और इस मामले पर सियासत गर्माने लगी है।
यहां बता दें कि मामला दो दिन पहले का है।
सागर जिले के एक गांव निवासी धनप्रसाद अहिरवार का पड़ोस में ही रहने वाले एक समुदाय के लोगों से किसी बात को लेकर विवाद चल रहा था। आरोप है कि कुछ दिन पहले इन लोगों ने धनप्रसाद के साथ मारपीट करने के साथ ही जान से मारने की धमकी भी दी थी। इसके बाद दो दिन पहले फिर दोनों पक्षों में विवाद हो गया। इसके बाद समुदाय विशेष के चार लोगों ने घर में घुसकर धन प्रसाद के ऊपर मिट़्टी का तेल डालकर उसे आग लगा दी। हमले में वह करीब 70 प्रतिशत झुलस गए हैं। इसके बाद वह अस्प्ताल में जिंदगी की जंग लड़ रहे हैं। आरोप है कि इस मामले में पुलिस से शिकायत की गई , लेकिन पुलिस सख्त कार्रवाई के स्थान पर मामले को रफादफा करने में जुट गई। इधर मामले ने तूल पकड़ा तो मध्य प्रदेश की सियासत भी गर्मा गई। शनिवार को नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव हमीदिया हॉस्पिटल पहुंचे और पीडि़त के परिजनों से मिलकर उन्हें सांत्वना दी। साथ ही मध्ययप्रपदेश पुलिस पर आरोप लगाया कि सरकार के इशारे पर वह इस मामले को दबाने का प्रयास कर रहे हैं। उनका आरोप है कि दबंगों द्वारा परेशान किए जाने और जान से मारने की धमकी दिए जाने को लेकर पहले भी तीन बार कार्रवाई की मांग की गई , लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। वहीं इससे पूर्व सागर के विधायक ने इस मामले को विधानसभा में उठाते हुए दलित समुदाय के लोगों को सुरक्षा मुहैया कराए जाने की मांग उठाई थी। इधर भाजपा ने दलितों के खिलाफ बढ़ रहे अपराध के खिलाफ राज्य में आंदोलन किए जाने का भी निर्णय लिया है।

और पढ़ें:   सपा मध्य प्रदेश में दो दर्जन विधानसभा क्षेत्रों में चुनाव लड़ेगी

भाजपा बोली, कांग्रेस कर रही है तुष्टिकरण की राजनीति
दलित को जिंदा जलाने के मामले में उचित कार्रवाई नहीं किए जाने का आरोप लगाते हुए भाजपा ने कांग्रेस पर तुष्टिकरण का आरोप लगाया है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह का कहना है कि एक तरफ कुछ लोग दलित समुदाय के युवक को घेरकर जिंदा जला देते हैं और दूसरी तरफ कार्रवाई के नाम पर 2-3 लोगों को पकड़कर मामले को दबाने का प्रयास किया जाता है। दरअसल कांग्रेस वोट बैंक के लिए समुदाय विशेष के आरोपितों को संरक्षण देकर तुष्टिकरण की राजनीति कर रही है। इसे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। भाजपा नेता इसके लिए जरूरत पड़ी तो सड़कों पर उतरकर आंदोलन भी करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here